रविवार, मार्च 28, 2010

समझदारों का गीत


27 तारीख़ को चैनल का एक साल पूरा हुआ..। इंपीरियल होटल में आलीशान पार्टी रखी गई..लेकिन सिर्फ बॉसेज़ के लिए..। अपना निज़ाम सबका ख्याल रखता है..। कर्मचारियों को भी कीर्तन का झुनझुना थमाया गया..। ज़्यादा कहने का वक्त नहीं है..लेकिन गोरखनाथ पांडेय की ये कविता बरबस ही जेहन में आ गई..।

हवा का रुख कैसा है, हम समझते हैं
हम उसे पीठ क्यों दे देते हैं, हम समझते हैं
हम समझते हैं ख़ून का मतलब
पैसे की कीमत हम समझते हैं
क्या है पक्ष में विपक्ष में क्या है, हम समझते हैं
हम इतना समझते हैं
कि समझने से डरते हैं और चुप रहते हैं.
चुप्पी का मतलब भी हम समझते हैं
बोलते हैं तो सोच-समझकर बोलते हैं
बोलने की आजादी का
मतलब समझते हैं
टुटपुंजिया नौकरी के लिए
आज़ादी बेचने का मतलब हम समझते हैं
मगर हम क्या कर सकते हैं
अगर बेरोज़गारी अन्याय से
तेज़ दर से बढ़ रही है
हम आज़ादी और बेरोज़गारी दोनों के
ख़तरे समझते हैं
हम ख़तरों से बाल-बाल बच जाते हैं
हम समझते हैं
हम क्यों बच जाते हैं, यह भी हम समझते हैं.
हम ईश्वर से दुखी रहते हैं अगर वह सिर्फ़ कल्पना नहीं है
हम सरकार से दुखी रहते हैं कि वह समझती क्यों नहीं
हम जनता से दुखी रहते हैं क्योंकि वह भेड़ियाधसान होती है.
हम सारी दुनिया के दुख से दुखी रहते हैं
हम समझते हैं
मगर हम कितना दुखी रहते हैं यह भी
हम समझते हैं
यहां विरोध ही बाजिब क़दम है
हम समझते हैं
हम क़दम-क़दम पर समझौते करते हैं
हम समझते हैं
हम समझौते के लिए तर्क गढ़ते हैं
हर तर्क गोल-मटोल भाषा में
पेश करते हैं, हम समझते हैं
हम इस गोल-मटोल भाषा का तर्क भी
समझते हैं.
वैसे हम अपने को
किसी से कम नहीं समझते हैं
हर स्याह को सफेद
और सफ़ेद को स्याह कर सकते हैं
हम चाय की प्यालियों में तूफ़ान खड़ा कर सकते हैं
करने को तो हम क्रांति भी कर सकते हैं
अगर सरकार कमज़ोर हो और जनता समझदार
लेकिन हम समझते हैं
कि हम कुछ नहीं कर सकते हैं
हम क्यों कुछ नहीं कर सकते
यह भी हम समझते हैं

2 टिप्‍पणियां:

  1. हम समझते हैं
    यहां विरोध ही बाजिब क़दम है
    हम समझते हैं
    हम क़दम-क़दम पर समझौते करते हैं
    हम समझते हैं
    हम समझौते के लिए तर्क गढ़ते हैं....


    कवि गोरख पांडे को श्रधांजलि... और 'विद्रोह और समझौते' के झंझावातों को झेलते आपके मन के लिए प्रार्थना....!!!!
    आपका भाई...!!

    जवाब देंहटाएं
  2. विद्रोह और समझौते के बीच के झंझावत के बीच ही प्रार्थना की असली परख होती है..। यूं उसे परख़ की ज़रुरत होती है, ऐसा नहीं लगता..। प्रार्थना खुदमुख्तार है..। जब कोई मुस्कुराहट बेवजह उदास हवाओं के होंठ भिगो जाती है..तो किसी अंजान प्रार्थना की ताकत का ऐहसास होता हा..। किस अज्ञातवास से आपने अचानक पुकारा है? कहां हैं आप?

    जवाब देंहटाएं